प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने की तेज बहादुर की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला,देखिए

0
4639

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वराणसी से चुनाव के लिये नामाँकन करने वाले बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन खारिज कर दिया गया था,जिसको लेकर तेज बहादुर सुप्रीम कोर्ट पहुँचे थे।

तेज बहादुर यादव का नामांकन पत्र 1 मई को खारिज हो गया था। जिसके बाद तेज बहादुर ने चुनाव आयोग द्वारा नामांकन पत्र रद्द करने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी थी। तेज बहादुर की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को चुनाव आयोग से जवाब मांगा था। इस मामले पर गुरुवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी।

READ  भगवान गणेश की मूर्ति को बीजेपी के रंग में रंगा, दर्ज होगी एफआईआर

चीफ जस्टिस रंजन गोगाई की पीठ ने तेज बहादुर यादव की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि हमें तेज बहादुर की याचिका में ऐसा कुछ नहीं मिला कि कोर्ट इस पर सुनवाई करे। इसलिए कोर्ट इस याचिका को खारिज करता है।

READ  राफेल सौदा इतना बड़ा घोटाला है, जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती : प्रशांत भूषण

30 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच में बीएसएफ से बर्खास्त किए जाने के संबंध में दो नामांकन पत्रों में अलग-अलग जानकारी सामने आने के बाद तेज बहादुर को नोटिस दिया गया था। जांच के दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी सुरेंद्र सिंह द्वारा तेज बहादुर यादव को बीएसएफ से बर्खास्तगी के संबंध में दो नामांकन पत्रों में अलग-अलग जानकारी देने पर नोटिस देकर 24 घंटे में बीएसएफ से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेकर प्रस्तुत करने को कहा गया था।

तेजबहादुर को कहा गया था कि यादव बीएसएफ से प्रमाणपत्र लेकर आएं, जिसमें यह स्पष्ट हो कि उन्हें नौकरी से किस वजह से बर्खास्त किया गया। जांच में पाया गया कि यादव ने पहले नामांकन में ‘भारत सरकार या राज्य सरकार के अधीन पद धारण करने के दौरान भ्रष्टाचार या अभक्ति के कारण पदच्युत किया गया’ के सवाल पर हां में जवाब दिया और विवरण में 19 अप्रैल, 2017 लिखा है।

READ  सबरीमाला विवाद: वायरल ऑडियो ने खोली BJP की साजिश की पोल, केरल BJP अध्यक्ष ने माना- ‘मंदिर के पुजारी को उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की अवमानना करने का दिया था आदेश’

दूसरे नामांकन में शपथ पत्र प्रस्तुत कर पहले नामांकन में गलती से हां लिख दिया गया था। शपथ पत्र में बताया कि तेज बहादुर यादव सिंह पुत्र शेर सिंह को 19 अप्रैल, 2017 को बर्खास्त किया गया, मगर भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा पद धारण के दौरान भ्रष्टाचार एवं अभक्ति के कारण पदच्युत नहीं किया गया है।

जिसके बाद निर्वाचन अधिकारी द्वारा जारी किए गए दो नोटिसों का जवाब देने 1 मई को सुबह 11 बजे तेज बहादुर यादव अपने वकील के साथ आरओ से मिलने पहुंचे। इसके बाद उनका नामांकन खारिज कर दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here