Category Archives: National

Reserve Bank of India

रिज़र्व बैंक की चेतावनी- आ रहा है बुरा वक्त

मुम्बई। रिज़र्व बैंक ने एक तरह से चेतावनी दे दी है कि भारतीय अर्थ व्यवस्था के लिए बुरा वक्त आ रहा है। आरबीआई ने अपनी मौद्रिक नीति रिपोर्ट, अक्टूबर 2019 में यह भी कहा है कि घरेलू और दुनिया में मंदी ने मिलकर देश में आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित किया है।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था जो पिछले कुछ तिमाहियों में काफी हद तक मंदा पड़ी है और मंदी के संकेत दिए गए हैं, निकट अवधि में कई और जोखिमों का सामना करने की संभावना है।

रिपोर्ट में कहा गया है, “घरेलू और दुनिया में आर्थिक मंदी के संयोजन ने आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित किया है, विशेष रूप से कुल मांग घट गई है। भारतीय अर्थव्यवस्था का निकट भविष्य का दृष्टिकोण कई जोखिमों से भरा है।”

इसने कहा कि आर्थिक गतिविधियों का प्रमुख सहारा निजी खपत है औऱ वह कई कारणों से कम हो गई है। “इस संदर्भ में, ऑटोमोबाइल और रियल एस्टेट जैसे बड़े रोजगार पैदा करने वाले क्षेत्रों का प्रदर्शन संतोषजनक से कम नहीं है। हाल ही में शुरू किए गए उपायों जैसे कि कॉर्पोरेट टैक्स दरों में तेज कटौती, आवास क्षेत्र के लिए परिसंपत्ति निधि, बुनियादी ढांचा निवेश निधि, कार्यान्वयन पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक जीएसटी रिफंड प्रणाली और निर्यात गारंटी के लिए धन मददगार होगा। “

यह भी कहा कि बैंक ऋण वृद्धि धीमी हो गई है और जोखिम में गिरावट और मांग में कमी के कारण वाणिज्यिक क्षेत्र के लिए कुल फंड प्रवाह में गिरावट आई है। हालांकि, मौद्रिक नीति रिपोर्ट में कहा गया है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का हालिया पुनर्पूंजीकरण क्रेडिट प्रवाह में सुधार के लिए अच्छी तरह से विकसित होता है, जो निजी निवेश गतिविधि को पुनर्जीवित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

“इस बीच, वैश्विक अनिश्चितताओं ने घर में निवेश गतिविधि को कमजोर कर दिया है। व्यापार तनाव के आगे बढ़ने से निर्यात की संभावनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, इसके अलावा निवेश में देरी होने से भी नुकसान हो सकता है।”

Bigg Boss Blamed 'Love Jihad' Fake News From a BJP Leader

‘लव जिहाद’ के झूठ में धकेला ‘बिग बॉस’ को, भाजपा नेता ने फैलाई फेक न्यूज़

मुम्बई। सलमान ख़ान के बतौर एंकर एयर होने वाले टेलीविज़न रिएलिटी शो ‘बिग बॉस’ पर लव जिहाद का झूठ मढ़ने वाले एक भाजपा नेता की भारी आलोचना हो रही है। चार अक्टूबर को एक झूठे ट्वीट के ज़रिए इस नेता ने यह कहा था कि बिग बॉस में लव जिहाद किया जा रहा है और एक कश्मीरी लड़के के साथ ब्राह्मण लड़की को सुलाया जा रहा है। जबकि यह तस्वीर बिग बॉस के वर्तमान सीज़न की नहीं है बल्कि 2015 में प्रसारित किए गए सीज़न 9 की तस्वीर है।

फेक न्यूज़ पर कार्य करने वाली एक वेबसाइट ने दावा किया कि भाजपा नेता अतुल कुशवाहा ने जिस तस्वीर को शेयर किया है वह कलर्स टीवी पर साल 2015 में सीज़न 9 के प्रतिभागियों सुयश रॉय और किश्वर मर्चेंट की है। इस बीच झूठा ट्वीट करने वाले अतुल कुशवाहा के इस ट्वीट पर 1500 रिट्वीट हो चुके थे और 2500 लोगों ने इसे लाइक भी कर लिया था। यह वेरीफाइड अकाउंट है।

जिस तस्वीर को नेताजी ने शेयर किया है वह यूट्यूब पर टेलीमसाला चैनल ने Bigg Boss 9: Suyyash & Kishwar Intimate On-Camera के टाइटल के साथ अपलोड किया था। कानपुर के रहने वाले नेताजी अतुल कुशवाहा भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के सदस्य हैं।

हालांकि बाद में नेताजी के इस ट्वीट पर कई लोगों ने क्लास भी लगा दी। लोगों ने उन पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया। यह जवाबी ट्वीट आप यहाँ देख सकते हैं।

Alka Tyagi , IT Officer in Mumbai

अंबानी परिवार को इनकम टैक्स का नोटिस देने वाली ऑफिसर है मुसीबत में, दफ्तर में चोरी

मुम्बई। इस साल मई में मुकेश अम्बानी के परिवार क नोटिस देने वाली महिला अधिकारी बहुत परेशान चल रही है। उन्होंने यह बात प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लिखी चिट्ठी में बयान की है। आपको बता दें कि इनकम टैक्स को लेकर मुम्बई की मुख्य आयकर आयुक्त (यूनिट 2) की अधिकारी अलका त्यागी ने यह शिकायत की है कि विभाग के प्रमुख उन पर बहुत दबाव बना रहे हैं और उनके ऑफिस से भी कुछ फाइलें चोरी हो गई हैं।

इस बारे में फेसबुक पर वरिष्ठ पत्रकार गिरीश मालवीय ने पूरे मामले को समझाते हुए फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर मामला का खुलासा किया है। पेश है गिरीश मालवीय की पूरी फेसबुक पोस्ट-

(फेसबुक पोस्ट का लिंक- https://www.facebook.com/girish.malviya.16/posts/2715875205110777)

मुकेश अम्बानी परिवार को मई 2019 में ब्लैक मनी एक्ट में इनकम टैक्स विभाग से नोटिस भेजा गया!…. यह खबर याद होगी आपको ! ……..कुछ दिन पहले यह खबर आयी थी तो सहसा किसी को विश्वास नही हुआ था, मोदीराज में अम्बानी परिवार को नोटिस भेजा गया है यह सुनकर मोदी समर्थक बल्लियों उछल पड़े, इस खबर को हाथों हाथ लिया गया और हम जैसे लोगो को खूब लानत मलामत भेजी गई ……….

कुछ दिन बाद खबर आई कि मुम्बई की मुख्य आयकर आयुक्त (यूनिट 2) पद पर कार्यरत अलका त्यागी जिनके पास यह केस था उनके दफ्तर में चोरी हो गयी है लेकिन इस मामले में कोई एफआईआर दर्ज नही कराई गई है यही अधिकारी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर- ICICI केस, ओर अंबानी परिवार से जुड़े ब्लैक मनी एक्ट संबंधी मामले समेत कई महत्वपूर्ण मामलों की जांच कर रही थी ओर इस चोरी के बाद अब यह किस्सा खत्म ही समझ लिया जा रहा था

लेकिन पिक्चर अभी बाकि है मेरे दोस्त……..

दो दिन पहले यह खबर आई है कि जिस अधिकारी अलका त्यागी के पास यह केस था उनके ऊपर बहुत प्रेशर बनाया जा रहा था और इस आशय की चिठ्ठी उन्होंने 21 जून को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को भेजी है उन्होंने इस शिकायत की CC उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय, केंद्रीय सतर्कता आयोग और कैबिनेट सेक्रेटरी को भी भेजी है।

अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, त्यागी की ओर से वित्त मंत्री को 9 पन्नों की शिकायत भेजी गई है और इसमें आरोप लगाया गया है कि केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के चेयरमैन प्रमोद चंद्र मोदी की ओर से उन पर बहुत ज़्यादा ‘दबाव’ बनाया जा रहा है, सीबीडीटी इनकम टैक्स के मामलों में निर्णय लेने वाली शीर्ष संस्था है।

अपनी चिट्ठी में अलका त्यागी ने केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के चेयरमैन प्रमोद चंद्र मोदी पर बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं।

त्यागी ने आरोप लगाया है कि 2019 के अप्रैल के अंतिम और मई के शुरुआती हफ़्ते में मोदी ने उन्हें बताया कि संवेदनशील आकलन के मामलों में की जा रही कार्रवाई को बंद किया जाना है और यह काम हर हालत में मई 2019 से पहले ही होना है !………..प्रमोद चंद्र मोदी का यह निर्देश बेहद चौंकाने वाला था। मोदी ने निर्देश दिये थे कि जिस मामले को बंद करने को कहा है उसमे क़तई इस बात का ज़िक्र नहीं होना चाहिए कि वह (मोदी) कहीं से भी इसमें शामिल हैं। त्यागी ने कहा है कि सीबीडीटी चेयरमैन ने उन पर इस मामले को बंद करने के लिए बहुत ज़्यादा दबाव बनाया और कहा कि किसी भी क़ीमत पर इस मामले को बंद किया जाए।

इसी अंग्रेजी अखबार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ ने इस महीने की शुरुआत में ही ख़बर दी थी कि अलका त्यागी ने उनके दफ़्तर में संदिग्ध कार्रवाई के बारे में प्रिंसिपल चीफ़ कमिश्नर एस. के. गुप्ता को लिखित शिकायत भेजी थी। त्यागी ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि एक पुराने मामले को लेकर उन पर दबाव बनाया जा रहा है और इस मामले को ख़ुद सीबीडीटी चेयरमैन प्रमोद मोदी ने ही निरस्त कर दिया था और उन्हें क्लीन चिट दे दी थी।

अलका त्यागी ने आरोप लगाया है कि बाद में मोदी ने इस मामले को फिर से खोल दिया और अब ब्लैकमेलिंग के हथियार के तौर पर उनके ख़िलाफ़ इस्तेमाल किया जा रहा है।

त्यागी ने अपने पत्र में लिखा है कि उन्होंने यह कभी नहीं सोचा था कि उन्हें इन बातों का ख़ुलासा करना पड़ेगा लेकिन उन्हें सीबीडीटी चेयरमैन के जोड़ तोड़ और बेईमानी भरे व्यहार की वजह से ऐसा करना पड़ा। उन्होंने प्रमोद चंद्र मोदी पर यह भी आरोप लगाया है कि जो अफ़सर उनकी बात को नहीं मानते थे वह उनके ख़िलाफ़ झूठी शिकायतें बना देते थे।

त्यागी ने कहा है कि एक बार मोदी ने उन्हें रात को 8.45/9 के बीच नॉर्थ ब्लॉक में अपने दफ़्तर में मीटिंग के लिए बुलाया लेकिन उन्होंने इतनी रात को जाने से मना कर दिया। उन्होंने पत्र में लिखा है कि यह मीटिंग किसी और वक्त भी हो सकती थी।

यह पत्र अलका त्यागी ने 21 जून को भेजा था अब यदि आप सोच रहे है कि इस पत्र को मिलते ही ईमानदारी के अवतार कहे जाने वाले मोदीं जी ने तुरंत जाँच के आदेश दे दिए होंगे तो आपको बता दूं कि ऐसा बिल्कुल भी नही है बल्कि यह शिकायत के मिलने के दो महीने के अंदर ही मोदी सरकार ने प्रमोद चन्द्र मोदी का सीबीडीटी चेयरमैन का कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा दिया है और अलका त्यागी को लूप लाइन में भेज दिया है उन्हें मुंबई से हटाकर नागपुर स्थित राष्ट्रीय प्रत्यक्ष कर अकादमी का प्रिंसिपल डायरेक्टर जनरल (ट्रेनिंग) बना दिया गया।

एक बात और……. अलका त्यागी ने अपने पत्र में यह भी लिखा है कि प्रमोद चन्द्र मोदी ने उनके सामने कबूला है कि विपक्षी पार्टी के एक नेता के खिलाफ उनकी अगुवाई में चलाए गए एक कामयाब छापे की वजह से उनका सीबीडीटी चेयरमैन का उनका पद सुनिश्चित हुआ……..

मोदी का ‘लाइव’ रोका, दूरदर्शन अधिकारी कर दी गई निलम्बित

मोदी का ‘लाइव’ रोका, दूरदर्शन अधिकारी कर दी गई निलम्बित

चैन्नई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चैन्नई में आईआईटी के दौरान चल रहे भाषण के दौरान दूरदर्शन ने उनका लाइव रोक दिया। इसकी क़ीमत दूरदर्शन महिला अधिकारी को निलम्बित होकर चुकानी पड़ी है। आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री के काफिले की जांच करने गए आईएएस ऑफिसर मुहम्मद मोहसिन के बाद यह दूसरा मामला है जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यक्रम में कथित ‘विघ्न’ डालने पर किसी अधिकारी पर कोई गाज गिरी है।

आईआईटी मद्रास के छप्पनवें दीक्षांत समारोह में शिरकत करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब भाषण दे रहे थे, दूरदर्शन चैन्नई की सहायक निदेशक श्रीमती आर वसुमथी ने कथित तौर पर यह लाइव प्रसारण बीच मे रुकवा दिया। इस बात की बहुत संभावना है कि इसी वजब से वसुमथी को नौकरी से निलम्बित कर दिया गया। हालांकि दूरदर्शन की तरफ से ना तो कोई पुष्टि की जा रही है और ना ही वसुमथी ने इस बारे में कोई बयान दिया है। प्रसार भारती के सीईओ ऑफिस से जारी आदेश में वसमुथी को शहर छोड़ने से भी रोका गया है। वसुमथी को थमाए गए पत्र में प्रसार भारती ने साफ किया है कि इसे हिरासत नहीं माना जाए।

वसुमथी के निलम्बन के दौरान वह अगले आदेश तक ऑफिस नहीं जा पाएंगी और ना ही वह किसी भी प्रकार के सरकारी आदेश जारी कर सकती हैं। निलम्बन के दौरान उन्हें घर पर ही रहना होगा और आधा वेतन लेने की हक़दार होगी।

Sony Super Star Singer Winner Priti Bhattacharji

सोनी ‘सुपर स्टार सिंगर’ की विजेता बनी प्रीति भट्टाचार्जी

मुम्बई। सोनी टीवी के सुपर रिएलिटी शो ‘सुपर स्टार सिंगर’ की विजेता बन गई है। सोनी टेलीविज़न पर प्रसारित होने वाले रिएलिटी शो में पश्चिम बंगाल की 9 साल की प्रीति विजेता बन गई।

छह और सात अक्टूबर को दो दिन चले रिएलिटी शो के फाइनल में प्रीति ने सबसे ज्यादा वोट हासिल करके यह खिताब अपने नाम किया। देश भर से छह प्रतियोगियों को फाइनल में जगह मिली थी। इसमें प्रीति के अलावा सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश की 13 साल की निष्ठा शर्मा, पुणे, महाराष्ट्र के 12 साल के मौली चैतानिया, बांकुरा, पश्चिम बंगाल की 13 साल की अंकोना मुखर्जी, मुम्बई की 13 साल की स्नेहा शंकर और शिवसागर, आसाम के 10 साल के हर्षित नाथ ने फाइनल में जगह बनाने में कामयाबी हासिल की थी।

Priti Bhattacharji
Priti Bhattacharji

कई महीनों तक चले वोटिंग के बाद आए निर्णय में सभी प्रतियोगियों में सबसे कम उम्र की प्रीति भट्टाचार्जी ने सबको पछाड़ते हुए विजेता की ट्रॉफी पर क़ब्ज़ा कर लिया। प्रीति भट्टाचार्जी को रिएलिटी शो के लिए नितिन कुमार ने ट्रेनिंग दी थी। शो को अल्का याज्ञनिक, जावेद अली और हिमेश रेशमिया ने जज के रूप में फाइनल तक पहुंचाया था। फाइनल शो में विशेष अतिथि के तौर पर प्यारेलालजी और अनु मलिक एवं सोनी पिक्चर्स के सीईओ एनपी सिंह ने भी उपस्थिति दी थी।

नितिन कुमार को सीज़न का बेहतर कप्तान का पुरस्कार मिला।

बाल गायकों को सलमान अली, नितिन कुमार, ज्योतिका टंगरी औऱ सचिन वाल्मीकि ने प्रशिक्षित किया था। हालांकि एक लीक तस्वीर के माध्यम से दर्शकों को पहले ही पता लग चुका था कि शो की विजेता प्रीति भट्टाचार्जी हैं। उनके विनर के पटके की तस्वीर पहले ही इंटरनेट पर वायरल हो चुकी थी।

भावुक होकर प्रियंका गांधी ने इस महिला को लगा लिया गले

भावुक होकर प्रियंका गांधी ने इस महिला को लगा लिया गले, लोग रह गए हैरान

नई दिल्ली। प्रियंका गांधी की भावुक होकर गले लगने वाली एक तस्वीर ने मीडिया में बवाल मचा दिया है। इस तस्वीर के बारे में प्रियंका गांधी ने जो जानकारी शेयर की, इसके बाद तो ट्वीटर पर यह तस्वीर ट्रेंड करने लगी। प्रियंका गांधी इस तस्वीर में एक महिला को बांह भर के गले लगा रहे हैं। इनके साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी खड़े हैं। प्रियंका ने जब इस तस्वीर के बारे में लोगों को बताया तो लोग हैरत में रह गए।

दरअसल बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना वाजेद इन दिनों भारत के दौरे पर हैं। अपने व्यस्त कार्यक्रम के दौरान वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस के नेता आनन्द शर्मा से मिलने सोनिया गांधी के निवास पर पहुँची। भेंट के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बांग्लादेश की प्रधानमंत्री को बाहर तक छोड़ने आईं। इस दौरान जाते जाते दोनों नेता एक दूसरे के गले लग गए। क़रीब एक मिनट तक दोनों नेताओं ने एक दूसरे को गले लगाए रखा। बाद में प्रियंका गांधी ने ट्वीट करके बताया। प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया कि यह गले लगाना मेरा ‘बकाया’ था। प्रियंका ने लिखा मैंने इस बकाया गले मिलने का लम्बा इंतज़ार किया है। उन्होंने (शेख हसीना) निजी नुकसान और मुश्किलों के बावजूद मज़बूती से संघर्ष किया। यह मेरे लिए भी प्रेरणा की बात है। प्रियंका गाँधी का आशय शेख हसीना के पिता और बांग्लादेश के नेता शेख मुजीबुर्रहमान की हत्या की ओर था। उनके पिता को 15 अगस्त 1974 को मार डाला गया था और उस समय शेख हसीना जर्मनी में थीं। बाद में देश की आज़ादी के बाद शेख़ हसीना ने अवामी लीग पार्टी का गठन किया। वह दिसम्बर 2018 में चुनाव जीतकर लगातार चौथी बार प्रधानमंत्री बनी हैं और देश में सबसे लम्बे समय तक शासन करने वाली प्रधानमंत्री बन गई हैं। शेख हसीना के बहाने शायद प्रियंका गांधी ने अपने पिता राजीव गांधी की हत्या और उसके बाद परिवार की संघर्ष को याद करते हुए शेख हसीना को गले लगा लिया।

सुन्नी दावते इस्लामी का प्रादेशिक इज्तिमा यानी महासम्मेलन 13 अक्टूबर को जयपुर में होगा।

सुन्नी दावते इस्लामी का महासम्मेलन 13 अक्टूबर को जयपुर में- सैयद मुहम्मद क़ादरी

जयपुर। सुन्नी दावते इस्लामी यानी एसडीआई का वार्षिक सम्मेलन यानी सालाना इज्तेमा शहर के कर्बला मैदान में इस रविवार 13 अक्टूबर को आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम की तैयारियाँ अंतिम दौर में हैं और राजस्थान के अलावा देश के अन्य राज्यों से भी सुन्नी मुसलमानों की भारी मात्रा में शिरकत की उम्मीद है।

सुन्नी दावते इस्लामी के जयपुर प्रभारी सैयद मुहम्मद क़ादरी ने यहाँ पत्रकारों को बताया कि राजस्थान स्तर का यह कार्यक्रम 13 अक्टूबर को दोपहर बाद 3 बजे शुरू होगा जो देर रात तक चलेगा। इसमें प्रमुख वक्ता के तौर पर वर्ल्ड इस्लामिक मिशन, लंदन, ब्रिटेन से आ रहे क़मरुज़्ज़माँ आज़मी का संभाषण होगा। उनके पुत्र एवं ब्रिटिश सुप्रीम कोर्ट में सोलिसीटर मोइनुज्ज़मा आज़मी भी लोगों को संबोधित करेंगे। सुन्नी दावते इस्लामी के संस्थापक मुहम्मद शाकिर अली नूरी, भारत के सबसे बड़े सुन्नी मदरसे जामिया अशरफिया के प्रधान मुफ़्ती निज़ामुद्दीन मिस्बाही, मालेगांव में एसडीआई के प्रमुख सैयद अमीनुल क़ादरी, अन्तरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त नातख़्वाह क़ारी रिज़वान ख़ान, एसडीआई के राजस्थान प्रभारी मौलाना फैय्याज़ अहमद रिज़वी, संगठन के प्रचारक मुहम्मद ख़ालिद रिज़वी एवं मुहम्मद सादिक़ रिज़वी समेत कई हस्तियाँ लोगों को संबोधित करेंगे।

सैयद मुहम्मद क़ादरी ने बताया कि महिलाओं के लिए बैठक का विशेष इंतज़ाम किया गया है। इस सम्मेलन में समाज में सुधार, नशामुक्ति, शिक्षा के प्रसार, महिलाओं एवं बच्चों की समाज में स्थिति और देश, प्रदेश एवं सामाजिक विकास के लिए विशेष संबोधन होंगे। इस कार्यक्रम की सफलता के लिए अजमेर में ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह समेत जयपुर की सभी प्रमुख दरगाहों पर दुआ के विशेष आयोजन किए जा चुके हैं। इस बार इज्तिमे में लोगों की जिज्ञासा के लिए उनके प्रश्नों को भी स्थान दिया जाएगा। आपको बता दें कि सुन्नी दावते इस्लामी भारत में सूफी मुसलमानों का सबसे बड़ा संगठन है जिसमें लाखों कार्यकर्ता सामाजिक उत्थान के लिए रात-दिन कार्य करते हैं। नैतिक शिक्षा और इस्लाम के सच्चे संदेश के प्रति समर्पित इस संगठन का प्रधान कार्यालय मुम्बई में है।

Azaan by Non muslim

पूर गांव में एक भी मुस्लिम नहीं फिर भी होती है मस्जिद में आजान

बिहारशरीफ: देश में जहां कई मौकों पर हिंदू-मुस्लिम के बीच सांप्रदायिक तनाव की स्थिति देखने और सुनने को मिलती है, वहीं बिहार के नालंदा जिले का एक गांव हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश कर रहा है. यह जानकर किसी को भी आश्चर्य होगा कि इस गांव में एक भी मुस्लिम परिवार नहीं है, परंतु यहां स्थित एक मस्जिद में नियमानुसार पांच वक्त की नमाज अदा की जाती है और अजान होती है. यह सब कुछ हिंदू समुदाय के लोग करते हैं.

Masjid azan
Masjid azan

नालंदा जिले के बेन प्रखंड के माड़ी गांव में सिर्फ हिन्दू समुदाय के लोग रहते हैं. लेकिन यहां एक मस्जिद भी है. और यह मस्जिद मुसलमानों की अनुपस्थिति में उपेक्षित नहीं है, बल्कि हिंदू समुदाय इसकी बाकायदा देख-रेख करता है, यहां पांचों वक्त नमाज अदा करने की व्यवस्था करता है. मस्जिद का रख-रखाव, रंगाई-पुताई का जिम्मा भी हिंदुओं ने उठा रखी है.

Masjid azan audio
Masjid azan audio

गांव वासी बताते हैं कि वर्षों पूर्व यहां मुस्लिम परिवार रहते थे, परंतु धीरे-धीरे उनका पलायन हो गया और इस गांव में उनकी मस्जिद भर रह गई है.

5 times azaan
5 times azaan

गांव के हंस कुमार कहते हैं, “हम हिंदुओं को अजान तो आती नहीं है, परंतु पेन ड्राईव की मदद से अजान की रस्म अदा की जाती है.” गांव वालों का कहना है कि यह मस्जिद उनकी आस्था से जुड़ी हुई है

Islam Birth place
Islam Birth place

मस्जिद की साफ-सफाई की जिम्मेदारी संभाल रहे गौतम कहते हैं कि किसी शुभ कार्य से पहले हिंदू परिवार के लोग इस मस्जिद में आकर दर्शन करते हैं.
इस मस्जिद का निर्माण कब और किसने कराया, इसे लेकर कोई स्पष्ट प्रमाण तो नहीं है, परंतु स्थानीय लोगों का कहना है कि उनके पूर्वजों ने जो उन्हें बताया है, उसके मुताबिक यह करीब 200-250 साल पुरानी है. मस्जिद के सामने एक मजार भी है, जिस पर लोग चादरपोशी करते हैं.

Mosque Azaan
Mosque Azaan

गांव के जानकी पंडित आईएएनएस से कहते हैं, “मस्जिद में नियम के मुताबिक सुबह और शाम सफाई की जाती है, जिसका दायित्च यहीं के लोग निभाते हैं. गांव में कभी भी किसी परिवार के घर अशुभ होता है तब वह परिवार मजार की ओर ही दुआ मांगने पहुंचता है.”

CALL TO PRAYER MUSLIM
CALL TO PRAYER MUSLIM

बहरहाल, माड़ी गांव की इस मस्जिद से भले ही मुस्लिमों का नाता-रिश्ता टूट गया हो, परंतु हिंदुओं ने इस मस्जिद को बरकरार रखा है.

Chandrayaan-2 Success story

Chandrayaan-2: विक्रम लैंडर के बारे में ISRO को मिली जानकारी, ऑर्बिटर ने भेजी तस्वीरें

इसरो (ISRO) को चांद पर विक्रम लैंडर की स्थिति के बारे में जानकारी मिलीहै। इसरो प्रमुख के. सीवन ने रविवार को जानकारी दी कि ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर का पता लगा लिया है। ऑर्बिटर ने लैंडर की थर्मल इमेज भी खींची है, लेकिन ऑर्बिटर का उससे कोई संपर्क नहीं हो पाया।

Chandrayaan 2 Latest hd Pics
Chandrayaan 2 Latest hd Pics

अब इसरो वैज्ञानिक ऑर्बिटर के जरिए विक्रम लैंडर को संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैं ताकि, उसका कम्युनिकेशन सिस्टम ऑन किया जा सके। के. सीवन ने कहा कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। ISRO अब ये पता लगाने की कोशिश करेगा कि  क्या विक्रम में किसी तरह की कोई तकनीकी खराबी हुई जिस वजह से उससे संपर्क टूटा या दूसरे कारणों की वजह से ऐसा हुआ।

Dhruv gupt chandrayaan 2
Dhruv gupt chandrayaan 2

उन्होने कहा, भविष्य में विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर कितना काम करेंगे, इसका तो डेटा एनालिसिस के बाद ही पता चलेगा। इसरो वैज्ञानिक अभी यह पता कर रहे हैं कि चांद की सतह से 2.1 किमी ऊंचाई पर विक्रम अपने तय मार्ग से क्यों भटका। इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि विक्रम लैंडर के साइड में लगे छोटे-छोटे 4 स्टीयरिंग इंजनों में से किसी एक ने काम न किया हो। इसकी वजह से विक्रम लैंडर अपने तय मार्ग से डेविएट हो गया। यहीं से सारी समस्या शुरू हुई, इसलिए वैज्ञानिक इसी प्वांइट की स्टडी कर रहे हैं।

Chandrayaan 2 Pics
Chandrayaan 2 Pics

बता दें, चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के दौरान चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ से चांद की सतह से महज 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर संपर्क टूट गया था। हालांकि ऑर्बिटर अभी भी चांद के चक्कर लगा रहा है। इस पर जो कैमरा लगा है, वह काफी  हाई रिजोल्यूशन का है। ये कैमरा 0.3 मीटर यानी 1.08 फीट तक की ऊंचाई तक किसी भी चीज की साफ तस्वीर ले सकता है।

GHS Kulsumpura children Reading

रूम टू रीड ने एक साथ 10 लाख बच्चों तक पहुंचाई किताबें

दिल्ली। भारत में पढ़ाई को प्राथमिकता देने के लिए देश भर में विश्व साक्षरता दिवस के मौके पर नौ राज्यों में 10 लाख से अधिक बच्चों ने एक साथ ‘रीड ए थॉन’ मुहिम में हिस्सा लिया। रूम ए रीड संगठन की पहल पर भारत में 8 सितम्बर विश्व साक्षरता दिवस पर यह कार्यक्रम सफलतापूर्वक किया गया।

GPS Patel Para Gullu - Students enjoying Reading Campaign
GPS Patel Para Gullu – Students enjoying Reading Campaign

रूम ए रीड के राष्ट्रीय निदेशक सौरव बनर्जी ने बताया कि भारत में करीब तीस करोड़ लोग साक्षर हैं। दुनिया में निरक्षर लोगों की यह सबसे बड़ी संख्या है। इतना ही नहीं भारत में प्राथमिक पाठशाला में पढ़ रहे 13 करोड़ बच्चे भी ठीक से लिख पढ़ नहीं पाते। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में इसे ‘सीखने का संकट’ करार दिया गया है। रूम टू रीड यह कमी पूरी करने के लिए आगे आया है। संगठन ने एक ही दिन में दस लाख बच्चों को भारत के विभिन्न नौ राज्यों से जोड़कर एक रिकॉर्ड कायम किया है। बनर्जी कहते हैं “अगर बच्चे शुरूआती कक्षा में ही पढना और लिखना नहीं सीखते हैं तो यह उनकी सीखने की क्षमता पर प्रभाव डालता है। पढ़ना, जानकारी को छांटना और समझकर फैसला लेने में पढ़ाई का बहुत महत्व है।”

Room to Read Pleadge photo
Room to Read Pleadge photo

अपनी मुहिम के बारे में बताते हुए बनर्जी ने कहा कि वह बच्चों को किताब पढ़कर सुनाने के लिए कह रहे है। अगर संभव हो तो इसकी तस्वीर भी सोशल मीडिया पर #PledgeReadingTime लिखकर पोस्ट करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं ताकि बाकी बच्चे और समाजसेवी भी इस प्रयास से प्रभावित होकर बच्चों को पढ़ने के लिए उनका हौसला बढ़ा सकें। अगर ज्यादा से ज्यादा लोग इस अभियान में शरीक होते हैं तो इसके प्रभाव में कई बच्चों को पढ़ने का मूल अधिकार भी मिल सकता है।

आपको बता दें कि रूम टू रीड अभियान की शुरूआत सन् 2003 से हुई थी। इस अभियान के तहत अब तक देश में नौ हज़ार पुस्तकालय स्थापित किए जा चुके हैं और 43 लाख लोग जुड़ चुके हैं। अभियान का लक्ष्य है कि साल 2024 तक इस अभियान में एक करोड़ तीस लाख बच्चों को जोड़ा जा सके। अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में रूम टू रीड का मुख्यालय है। इस अभियान में यह भावना थी कि अगर बच्चों को पढ़ने का बेहतर अवसर मिले तो वह दुनिया को बदल सकते हैं और अपना विकास कर सकते हैं।

PS Than Block Pati Barwani
PS Than Block Pati Barwani

अभियान से जुड़े संजय सिंह ने मीडिया को बताया कि निम्न आयवर्ग के बच्चों के लिए विशेष तौर पर तैयार किए गए इस अभियान में स्थानीय संगठनों और सरकार की मदद से पढ़ने की क्षमता के विकास पर ध्यान दिया जाता है। अब तक 16 देशों के 30 सामाजिक वर्गों के 1 करोड़ 66 लाख बच्चों को लाभान्वित किया जा चुका है। भारत में यह एक साथ 2003 में ही शुरू किया गया था। आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में अब तक नौ हज़ार पुस्तकालय स्थापित कर 43 लाख बच्चों को लाभान्वित किया जा चुका है।