Manmohan singh 5 trillion economy tips

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने बताया 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने का राज

जयपुर. भारत की गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शनिवार को कहा, “मैं सरकार से अनुरोध करता हूं कि वे राजनीतिक बदले की भावना को बगल रखे और अर्थव्यवस्था को संकट से उबारने के लिए बेहतर सोच और समझदारी से भरी आवाज को सुनने की कोशिश करे।” उन्होंने कहा कि भारत को पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए एक बेहतर सोचवाली राष्ट्रीय रणनीति अपनाने की आवश्यकता है।

Modi Yoga Economy
Modi Yoga Economy

जयपुर में एक निजी विश्वविद्यालय में कार्यक्रम के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा, ‘इस समय हमारी अर्थव्यवस्था धीमी पड़ती दिखती है। जीडीपी वृद्धि दर में गिरावट आ रही है। निवेश की दर स्थिर है। किसान संकट में हैं। बैंकिंग प्रणाली संकट का सामना कर रही है। बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। भारत को पांच हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए हमें एक अच्छी तरह से सोची समझी रणनीति की जरूरत है।’

Modi need help from Manmohan singh
Modi need help from Manmohan singh

उन्होंने सुझाव दिया कि सरकार को ‘टैक्स आतंकवाद’ रोकना चाहिए, भिन्न विचारों की आवाजों का सम्मान करना चाहिए और सरकार के हर स्तर पर संतुलन लाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘उदारीकरण की नीतियों पर खड़े किए गए आर्थिक सुधारों को जारी रखना समय की मांग है।’ देश में लोकतंत्र की जड़ों को मजबूत करने की वकालत करते हुए राजस्थान से राज्यसभा सदस्य सिंह ने कहा कि लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए आने वाले समय में सिद्धांतवादी, ज्ञानी और दूरदर्शी नेताओं की जरूरत है।

Modi copy Manmohan scem
Modi copy Manmohan scem

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की शक्ति संविधान में निहित है और राजनीतिक दलों को संविधान में उल्लेखित मूल्यों की रक्षा के लिए प्रतिबद्धता जतानी होगी। उन्होंने कहा कि हमारी एकता बनी रहे इसके लिए जरूरी है कि सरकार न्याय, स्वतंत्रता एवं समानता के साथ..साथ ऐसा वातावरण दे जो भिन्न विचारों का सम्मान करता हो।

Modi failure economy
Modi failure economy

डॉ. सिंह कहा कि हमें संसद और इसकी प्रक्रियाओं की सर्वोच्चता का सम्मान करना होगा. जेके लक्ष्मीपत विश्वविद्यालय में इस कार्यक्रम में सिंह ने यह भी कहा कि उच्चतम न्यायालय, निर्वाचन आयोग, कैग, सीबीआई, सतर्कता आयोग, सूचना आयोग जैसे संस्थानों से अपेक्षा रहती है कि वे संविधान के ढांचे के भीतर स्वतंत्र रूप से काम करेंगे।

Leave a Reply