Tag Archives: narendra

Reserve Bank of India

रिज़र्व बैंक की चेतावनी- आ रहा है बुरा वक्त

मुम्बई। रिज़र्व बैंक ने एक तरह से चेतावनी दे दी है कि भारतीय अर्थ व्यवस्था के लिए बुरा वक्त आ रहा है। आरबीआई ने अपनी मौद्रिक नीति रिपोर्ट, अक्टूबर 2019 में यह भी कहा है कि घरेलू और दुनिया में मंदी ने मिलकर देश में आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित किया है।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था जो पिछले कुछ तिमाहियों में काफी हद तक मंदा पड़ी है और मंदी के संकेत दिए गए हैं, निकट अवधि में कई और जोखिमों का सामना करने की संभावना है।

रिपोर्ट में कहा गया है, “घरेलू और दुनिया में आर्थिक मंदी के संयोजन ने आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित किया है, विशेष रूप से कुल मांग घट गई है। भारतीय अर्थव्यवस्था का निकट भविष्य का दृष्टिकोण कई जोखिमों से भरा है।”

इसने कहा कि आर्थिक गतिविधियों का प्रमुख सहारा निजी खपत है औऱ वह कई कारणों से कम हो गई है। “इस संदर्भ में, ऑटोमोबाइल और रियल एस्टेट जैसे बड़े रोजगार पैदा करने वाले क्षेत्रों का प्रदर्शन संतोषजनक से कम नहीं है। हाल ही में शुरू किए गए उपायों जैसे कि कॉर्पोरेट टैक्स दरों में तेज कटौती, आवास क्षेत्र के लिए परिसंपत्ति निधि, बुनियादी ढांचा निवेश निधि, कार्यान्वयन पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक जीएसटी रिफंड प्रणाली और निर्यात गारंटी के लिए धन मददगार होगा। “

यह भी कहा कि बैंक ऋण वृद्धि धीमी हो गई है और जोखिम में गिरावट और मांग में कमी के कारण वाणिज्यिक क्षेत्र के लिए कुल फंड प्रवाह में गिरावट आई है। हालांकि, मौद्रिक नीति रिपोर्ट में कहा गया है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का हालिया पुनर्पूंजीकरण क्रेडिट प्रवाह में सुधार के लिए अच्छी तरह से विकसित होता है, जो निजी निवेश गतिविधि को पुनर्जीवित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

“इस बीच, वैश्विक अनिश्चितताओं ने घर में निवेश गतिविधि को कमजोर कर दिया है। व्यापार तनाव के आगे बढ़ने से निर्यात की संभावनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, इसके अलावा निवेश में देरी होने से भी नुकसान हो सकता है।”

मोदी का ‘लाइव’ रोका, दूरदर्शन अधिकारी कर दी गई निलम्बित

मोदी का ‘लाइव’ रोका, दूरदर्शन अधिकारी कर दी गई निलम्बित

चैन्नई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चैन्नई में आईआईटी के दौरान चल रहे भाषण के दौरान दूरदर्शन ने उनका लाइव रोक दिया। इसकी क़ीमत दूरदर्शन महिला अधिकारी को निलम्बित होकर चुकानी पड़ी है। आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री के काफिले की जांच करने गए आईएएस ऑफिसर मुहम्मद मोहसिन के बाद यह दूसरा मामला है जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यक्रम में कथित ‘विघ्न’ डालने पर किसी अधिकारी पर कोई गाज गिरी है।

आईआईटी मद्रास के छप्पनवें दीक्षांत समारोह में शिरकत करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब भाषण दे रहे थे, दूरदर्शन चैन्नई की सहायक निदेशक श्रीमती आर वसुमथी ने कथित तौर पर यह लाइव प्रसारण बीच मे रुकवा दिया। इस बात की बहुत संभावना है कि इसी वजब से वसुमथी को नौकरी से निलम्बित कर दिया गया। हालांकि दूरदर्शन की तरफ से ना तो कोई पुष्टि की जा रही है और ना ही वसुमथी ने इस बारे में कोई बयान दिया है। प्रसार भारती के सीईओ ऑफिस से जारी आदेश में वसमुथी को शहर छोड़ने से भी रोका गया है। वसुमथी को थमाए गए पत्र में प्रसार भारती ने साफ किया है कि इसे हिरासत नहीं माना जाए।

वसुमथी के निलम्बन के दौरान वह अगले आदेश तक ऑफिस नहीं जा पाएंगी और ना ही वह किसी भी प्रकार के सरकारी आदेश जारी कर सकती हैं। निलम्बन के दौरान उन्हें घर पर ही रहना होगा और आधा वेतन लेने की हक़दार होगी।